आधुनिकता के आडम्बर में छिपी विक्षिप्त मानसिकता को दर्शाती है ‘ रेस्क्यू ‘

0

रेस्क्यू का हिंदी अर्थ होता है बचाव लेकिन फ़िल्म देखने के बाद दर्शक सोचने पर मजबूर हो जाता है क्योंकि फ़िल्म में जो मुख्य पात्र बंधक होता है वह क़ैदमुक्त होने के बाद भी अपना बचाव नहीं कर पाता।
फ़िल्म का विषय गहन चिंतन योग्य है। निर्देशक ने जिस प्रकार महिला पात्र का उल्लेख किया है वह अति आधुनिकता से घिरे विक्षिप्त मानसिकता को प्रदर्शित करता है। यहाँ चार लड़कियां हैं जो पुरुषों से नफरत करती है। फ़िल्म में नशा, सेक्स, हवस, क्रूरता, हिंसा जैसे मानसिक विकार से पीड़ित मॉडर्न लड़कियों का बचाव दिखाया है। फिल्म में एक इस्टेट एजेंट है जिसका नाम जतिन है वह तीन लड़कियों हनी, मीरा और आयशा को एक फ़्लैट दिखाता है तीनों लड़कियों को पसंद आता है वे वहाँ रहना शुरू कर देते हैं। दूसरे दिन तीनों लड़कियां जतिन को फ्लैट के एग्रीमेंट लेने के लिए फ्लैट में बुलाते हैं और उसे कैद कर उसके साथ अमानवीय हरकत और मारपीट करते हैं, वह बार-बार भागने की कोशिश परंतु नाकामयाब रहता है। इधर उसका दोस्त सौरभ भी जतिन को ढूंढने की कोशिश करता है और पुलिस तक भी पहुंचता है परंतु वह उसे ढूंढ नहीं पाता। जतिन लड़कियों की गिरफ्त से एक दिन भाग जाता है और सीधे हॉस्पिटल पहुंचकर अपना इलाज करवाता है। सौरभ को उसका मित्र मिल जाता है तभी जतिन की प्रेमिका उससे मिलने आती है। सौरभ भी पुलिस को जतिन के मिलने की खबर सुनाता है, सौरभ को अपने मित्र की बातों पर भरोसा है वह सारी घटना पुलिस को बताता है परंतु पुलिस उनका विश्वास नहीं करते। एक बार फिर उस फ़्लैट की हकीकत जानने के लिए पुलिस सौरभ के साथ उस फ्लैट पर जाती है या नहीं यह फ़िल्म देखने के बाद ही पता चलेगा। फिल्म के डायरेक्टर नयन पचौरी ने लड़कियों की विक्षिप्त मानसिकता और जतिन की बेबसी दिखाने की कोशिश की है पर कहानी दर्शकों को कंफ्यूज कर देती है। फिल्म के गाने और संवाद भी प्रभावपूर्ण नहीं है। डायरेक्टर ने फिल्म की गहराई और महत्व को सही ढंग से पर्दे पर नहीं उतार सके। फ़िल्म के कलाकार राहुल तुलसीराम, श्रीजीता डे, इशिता गांगुली, मेघा शर्मा और रानी अग्रवाल ने अच्छा अभिनय करने की कोशिश की है पर उन्हें दर्शकों का कितना प्यार हासिल होगा यह दर्शक तय करेंगे।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)