रेड कॉर्नर नोटिस जारी करने का दबाव बना रही सरकारः जाकिर नाईक

0

दोपहर संवाददाता
मुंबई। विवादित इस्लामिक उपदेशक जाकिर नाईक ने भारत सरकार पर आरोप लगाया कि वह उसे फंसाने में लगी है। जाकिर का आरोप है कि इंटरपोल पर उनके खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी करने के लिए भारत सरकार लगातार दबाव बना रही है। नाईक ने एक बयान में कहा कि वह इस बात से अवगत हैं,‘सरकार मेरे खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी कराने के लिए इंटरपोल पर दबाव बना रही है।’ बता दें कि जाकिर नाईक 2016 में भारत छोड़ कर भाग गए थे। उन्होंने दावा किया, ‘यह मुझे फंसाने के व्यापक अभियान का हिस्सा है लेकिन कुछ सदस्य देशों से पुष्टि करने के बाद, मैं यह दावा कर सकता हूं कि आज की तारीख मैं मेरे खिलाफ कोई रेड कॉर्नर नोटिस जारी नहीं है।’ उन्होंने कहा कि भारतीय समाचार पत्रों में से एक ने भारतीय सरकार के आंतरिक विचार-विमर्श के बारे में एक रिपोर्ट प्रकाशित की।
उन्होंने कहा कि यह विचार-विमर्श तो पिछले दो साल से अधिक समय से चल रहा है और समाचार पत्र ने इस मामले में जल्दबाजी दिखाई। नाईक ने कहा कि इंटरपोल ने पहले ही उसके खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस को रद्द कर दिया था। उसने कहा, ‘सरकार को आरोपपत्र दायर किए और इंटरपोल पर दबाव बनाते हुए करीब डेढ़ साल हो गया है। लेकिन अभी जैसे हालात हैं, मेरे पास यह मानने के लिए एक भी कारण नहीं है कि इंटरपोल किसी भी अनुचित दबाव में आएगा।’
नाईक के अभी मलेशिया में होने की खबर है। उनके खिलाफ 2016 में तब से जांच जारी है, जब से केंद्र ने उनके ‘इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन’ को प्रतिबंधित कर दिया था।
एनआईए की एक विशेष अदालत ने 2017 जून में नाईक को घोषित अपराधी करार दिया था। उन पर युवकों को आतंकवादी गतिविधियों में शामिल होने के लिए उकसाने, घृणा फैलाने वाले भाषण देने और समुदायों के बीच शत्रुता फैलाने के आरोप हैं। एनआईए ने मुम्बई की एक अदालत में अक्टूबर 2017 में नाईक और अन्य के खिलाफ आरोप पत्र दायर किया था।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)