आगरी सेना में पड़ी फूट

0

भाजपा युति को समर्थन देने से बढ़ी नाराजगी
आगरी सेना के तालुका व शहर अध्यक्ष ने दिए इस्तीफे

सुजीत श्रीवास्तव/ दोपहर
अंबरनाथ। आगरी समाज के बीच कार्यरत संगठन आगरी सेना के अध्यक्ष राजाराम सालवी द्वारा आगामी लोकसभा के चुनाव में शिवसेना भाजपा गठबंधन को आगरी सेना का समर्थन घोषित किए जाने से आगरी समाज के कुछ लोगों में विरोध किया है, आगरी सेना के अध्यक्ष सालवी के इस फैसले से नाराज आगरी सेना से जुड़े दर्जनों जिम्मेदार पदाधिकारियों ने आगरी सेना से इस्तीफा देना शुरू कर दिया है.सोमवार को आगरी सेना अंबरनाथ तालुका के अध्यक्ष निलेश रसाल ने यह कहते हुए अपने पद से त्यागपत्र दे दिया कि आगरी सेना के संस्थापक अध्यक्ष राजाराम सालवी को आगरी समाज से नाता रखने वाले बाबाजी पाटिल ( राकां कांग्रेस उम्मीदवार ) को समर्थन देना चाहिए था जबकि सालवी ने कल्याण संसदीय सीट से शिवसेना के उम्मीदवार श्रीकांत शिंदे को साथ देने की अधिकृत घोषणा की है. रसाल कहते है कि शिवसेना के उम्मीदवार शिंदे आगरी सामाज से नहीं है.इसलिए उन्हें समर्थन देने का कोई औचित्य ही नहीं है.
वही मंगलवार को आगरी सेना के अंबरनाथ शहर अध्यक्ष नगरसेवक सचिन सदाशिव पाटिल तथा आगरी सेना के तालुका कार्याध्यक्ष महेश बलीराम जाधव ने आगरी सेना तालुका युवक अध्यक्ष नवनीत सीताराम भोईर, विद्यार्थी परिषद के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य कुणाल पाटिल, स्वप्निल पाटिल, जीवन पाटिल, उमेश पाटिल, नीलेश पाटिल, जगन पाटिल, गणेश जाधव, अंकुश फूलोरे, गुरुनाथ नागांवकर, विक्की जाधव आदि के साथ मिलकर आगरी सेना से नाता तोड़ लिया है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)