भिवंडी लोकसभा चुनावः चुनाव से पहले ही बोल्ड हो गई कांग्रेस

0

बिना परमिशन लगे कांग्रेस के बैनर को उतार लें जा रही मनपा
अभी तक छह कार्यक्रम बिना पुलिस परमिशन के हो चुका है रद्द

जितेंद्र तिवारी/ दोपहर
भिवंडी। अपनों का विरोध, सहयोगी दलों की नाराजगी,मंदगति से हो रहे चुनाव प्रचार के कारण 23 भिवंडी लोकसभा क्षेत्र में चुनाव से पहले ही कांग्रेस बोल्ड हो चुकी है।इतना ही नही चुनाव प्रचार के लिए बिना पुलिस परमिशन न होने के कारण पुलिस का डंडा चलने के कारण छह कार्यक्रम रद्द हो चुका है।साथ बैनर लगाने के लिए भी इजाजत न लिए जाने के कारण मनपा जहां बैनर उतार लें जा रही है।वही इस कारण उमीदवार पर फौजदारी केस होने का खतरा भी मंडराने लगा है।
मालूम हो कि भिवंडी लोकसभा क्षेत्र में कुल 15 प्रत्याशी चुनाव मैदान में है।लेकिन सीधा टक्कर युति उमीदवार सांसद कपिल पाटिल व अघाड़ी उमीदवार पूर्व सांसद सुरेश टावरे के बीच मे माना जा रहा था।लेकिन चुनाव से पहले ही कांग्रेस चुनाव से बाहर दिख रही है।सूत्र बताते है कि कांग्रेस प्रत्याशी के पास इतने लोग नही है कि वे शहर में लगाने वाले होर्डिंग का परमिशन मनपा व पुलिस प्रशासन से ले सके।लिहाजा सुरेश टावरे ने प्रचार के लिए जितना भी होर्डिंग शहर में लगाया गया था।वह प्रभाग दो के प्रभाग अधिकारी बालाराम जाधव उखाड़ ले गए।बालाराम जाधव ने बताया कि सुरेश टावरे परवाना विभाग के एक अधिकारी के आश्वासन पर होर्डिंग लगाए थे।लेकिन उस पर मनपा की टैक्स पाउती नही लगी थी।जिसके कारण उन्हें उतारा गया।उन्होंने बताया कि बाद में यदि पाउती नही दिखाते तो उन पर फौजदारी का केस भी होता।इसके अलावा सूत्र बताते है कि कांग्रेस का अभी तक कुल छह कार्यक्रम रद्द हो चुका है क्योंकि प्रत्यासी के लोग कार्यक्रम करने के लिए पुलिस महकमे से परमिशन ही नही ले पाए।सूत्र तो यहां तक बता रहे है कि अब जब चुनाव में चंद दिन ही शेष बचे है ऐसे में सहयोगी दलों का किसी प्रकार का कोई समर्थन कांग्रेसी उमीदवार को नही मिल रहा है।सभी सहयोगी पार्टी अपने अपने प्लेटफार्म तलासने में जुटे है।आपसी मतभेद के कारण चुनाव से पहले ही कांग्रेस की हार का चर्चा शहर में जोरों से चल रही है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)