20,000 कर्मचारियों का भविष्य अधर में लटका

0

जेट एयरवेज बंद होने की कगार पर
सात महीने से सैलरी का हिसाब किताब रेग्युलर नहीं
जॉब बचाने के लिए 1500 करोड़ की जरूरत
दोपहर संवाददाता
नई दिल्ली। वित्तीय आर्थिक संकट के कारण जेट एयरवेज बंद होने की कगार पर है, इसके चलते कंपनी के लगभग 20,000 कर्मचारियों का भविष्य अधर में लटक गया है. इस समस्या को लेकर कैप्टन असीम वालियानी का दर्द छलका है.असीम वालियानी ने कहा है कि एसबीआई ने जो 1500 करोड़ रुपए की फंडिंग का वादा किया था, जो हमारे लिए एक लाइफ लाइन थी जब तक हमें कोई बिडर नहीं मिलता तब तक एयरलाइन चलने वाली थी. हमारी सैलरी निकलने वाली थी, लेकिन वह कुछ भी नहीं हुआ है जो भी उन्होंने वादा किया था.वह अभी तक कुछ नहीं हुआ और अगर यह फंडिंग नहीं आती है तो एयरलाइन का ऑपरेशन कभी भी सस्पेंड हो सकता है.
मैनेजमेंट ने हमें कन्वे किया है की 400 करोड़ से कुछ नहीं होने वाला है. गवर्नमेंट अगर सीरियस है इस एयरलाइंस को बचाने में और जॉब को बचाने में तो कम से कम हजार से 1500 करोड़ रुपए की जरूरत पड़ेगी जो पायलेट्स इंजीनियर हैं उनकी करीब साढे 3 महीने की सैलरी है बाकी ग्राउंड स्टाफ की करीब 1 महीने की सैलरी अभी बकाया है.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)