मेरी तरफ देखकर हंसा क्यों, बस कर दी हत्या !

0

2 नाबालिग कुरार पुलिस की हिरासत में
सत्यप्रकाश सोनी/दोपहर
मुंबई। कुरार पुलिस ने 2 ऐसे नाबालिक लड़कें को हत्या के मामले हिरासत में लिया है। जिन्होंने अपने दोस्त की हत्या सिर्फ इसलिए कर दिया की वह उसको देखकर हँस रहा था। हत्या के बाद दूसरे दोस्त ने घायल दोस्त को पास के सरकारी हॉस्पिटल लेकर गया जहां उसकी एडमिट करने से पहले मौत हो चुकी थी।
घटना की जानकारी मिलते ही कुरार पुलिस मौके पर पहुची जहां हत्यारा दोस्त भागने की फिराक में था लेकिन उसके पहले कुरार पुलिस के हाथ लग गए जिन्होंने अपना गुनाह कबूल करते हुए बताया कि ‘मेरे तरफ देखकर हँसा क्यों’ बस कर दिया हत्या।दरसल मामला मुंबई मालाड पूर्व कुरार पोलिसस्टेशन की हद संतोष नगर,कन्यापाडा का है जहां 2 नाबालिक दोस्त घर से दूध लाने के लिए निकले थे जहां रास्ते मे उसके दूसरे 2 दोस्त मिल गए जो मोबाइल पर व्हाट्स चैट कर रहे थे। जिसको देखकर मृतक धीरज गुलाब सिंह गुसाईं हँसने लगा बस इतना ही था कि 16 वर्षीय और 17 वर्षीय नाबालिक दोस्तो ने मिलकर धीरज की जमकर लातघुसो से पिटाई करने लगे जो बेसुध होकर गिर पड़ा लेकिन पिटाई करते रहे। जिसके बाद धीरज के दोस्त ने घायल धीरज को ट्रामा केअर हॉस्पिटल लेकर गए जहां बिफोर एडमिशन धीरज को मृत घोषित कर दिया। जिसकी जानकारी ट्रामा केअर हॉस्पिटल के डॉक्टर ने कुरार पुलिस को दिया जहां पुलिस ने अविलंब ट्रामा केअर पहुँचकर पहले धीरज के दोस्त से घटना के बारे पूछताछ किया तो पता चला कि हत्या में शामिल दोनों नाबालिक रोहित मुंबई से बाहर भागने की फिराक में थे लेकिन कुरार वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक उदयराज शिर्के के नेतृत्व में पीआई चाड़के,एपीआई जी. एस. घारगे, पीएसआई सातारडेकर, एपीआई वाघमारे, और डिटेक्शन स्टाफ द्वारा टीम बनाकर तुरंत मौके पर रवाना हुए जहां छुपे हुए दोनो नाबालिक को संतोष नगर इलाके से हिरासत में लिया और पूछताछ किया जहां दोनो ने अपना गुनाह कुबूल कर लिया फिलहाल दोनो पकड़े गए नाबालिक को बाल सुधार गृह भेजकर हत्या के असली कारण का पता लगा रही है। आपको बता दें कि मृतक और हत्यारे सभी एक ही इलाके में रहते है। सभी कॉलेज जाने वाले विद्यार्थी है। जो कुछ दिन पहले एकसाथ एक बर्थडे पार्टी में शामिल थे। लेकिन इसबीच क्या हुआ किसी को पता नही लेकिन कुरार पुलिस घटना के तहतक जाने की कोशिश कर रही है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)