जब आप सोशल मीडिया पर ब्लॉक कर दिए जाते हैं

0

डॉ. कनक लता तिवारी
आज के कॉलम को अपनी आप बीती से शुरू करती हूँ। अभी तक मुझे पता नहीं था की सोशल मीडिया का कितना प्रभाव मेरे ऊपर है जब तक की फेसबुक ने मुझे तीन दिन के लिए ब्लॉक नहीं कर दिया ।मेरा कुसूर सिर्फ इतना था की आशा तै के गए हुए एक गाने को गाकर मैंने फेसबुक पर पोस्ट कर दिया। अपने को गायिका मानने की जो भूल मेरे दिमाग में थी उसी ने मुझसे से ये सब करवाया।
खैर इस बात को तीन साल बीत चुके थे ी अचानक एक दिन फेसबुक ने मुझे ब्लॉक कर दिया ये कह कर की ये कॉपीराइट का मामला है ।अब तो ये आलम है की मैं बाथरूम में भी गाते हुए डर रही हूँ की कहीं ये कॉपीराइट का मामला न बन जाये। फेसबुक, ट्विटर जैसी सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट्स और विभिन्‍न ऐप्‍लीकेशन आज लोगों की जिंदगी का हिस्‍सा बन गए हैं। यदि इन सभी से आदमी थोड़ी देर के लिए भी दूर होता है तो वह बेचैन हो जाता है।
तो मेरा भी ऐसा ही हाल हो गया। वो सोशल मीडिया पर पोज़ बना कर फोटो डालना फिर उस पर लाइक्स की प्रतीक्षा करना, ये साड़ी रोमांचक चीजें मेरी जिंदगी से चली गयी ।बस चारो और सन्नाटा सा दिख रहा था ।बस सोच रही थी कब ये बन हेट और मैं अपनी वर्चुअल दिखावे की दुनिया में वापस लौटूं। ये हल जब मेरे जैसे बड़ी उम्र वाले का था तो नयी उम्र वालों का हाल ोगा अगर उनके पास थोड़ी देर को भी सोशल मीडिया या स्मार्ट फ़ोन न हो । शुरूआत में सोशल मीडिया यानी न्‍यू मीडिया का मकसद लोगों को एक-दूसरे से जोड़ने के साथ ही संचार माध्यम को मजबूती देना था। अपने इस मकसद में सोशल मीडिया को सफलता भी मिली। लेकिन साथ ही इसने सामाजिक संबंधों को भी प्रभावित किया है।
हर सिक्के के दो पहलू होते हैं, दूसरे पहलू के रूप में सोशल मीडिया ने लोगों के संबंधों में दखल किया है। सोशल नेटवर्किंग साइट अधिकांश लोगों के जीवन का हिस्सा बन चुकी हैं। सोशल नेटवर्किंग किसी रिश्ते में असंतोष का कारण बन सकती है। जब आपका साथी आपसे ज्यादा सोशल नेटवर्किंग साइट पर समय बिताता है तो आपकी भावनाओं को ठेस पहुंचती है। ऐसे में इसका दुष्‍प्रभाव यह होता है कि व्‍यक्ति खुद को उपेक्षित महसूस करने लगता है।आज हर उम्र के लोग फेसबुक और ट्विटर जैसी सोशल नेटवर्किंग साइट से जुड़े हैं। सोशल नेटवर्किग का दौर माई स्पेस से शुरू होकर फेसबुक व ट्विटर तक पहुंच चुका है।
पहले इन साइट्स का इस्तेमाल पुराने स्कूल के दोस्तों को खोजने और परदेश में रह रहे रिश्तेदारों से संपर्क बनाने के लिये किया जाता था। हाल के वर्षों में इन्होंने हमारे करीबी संबंधों के सभी पहलुओं को घेर लिया है, विशेष रूप से हमारे जीवन और संबंधों को। फेसबुक और ट्विटर लोगों को उनके दोस्तों व रिश्तेदारों की पसंद-नापसंद और सामाजिक दायरे से जोड़ता है। इस पूरे कार्यक्रम में कोई प्रत्यक्ष वार्तालाप या मुलाकात शामिल नहीं होती है। फेसबुक पर किसी के बारे में लोग राय उसके द्वारा साझा की गई पोस्ट और टिप्‍पणियों के आधार पर करते हैं।युवा सोशल नेटवर्किंग साइट्स का उपयोग ना सिर्फ दोस्त बनाने के लिए बल्कि गर्ल-फ्रेंड और ब्वॉय फ्रेंड ढूंढने के लिए भी खूब कर रहे हैं। इतना ही नहीं सोशल नेटवर्किंग आज के जमाने में मैरिज काउंसलर तक की भूमिका में आ गया है।
इसके साथ ही यह दो लोगों के आपसी रिश्‍तों में खटास पैदा करने का कारण भी बन रहा है। फेक प्रोफाइल इसका एक उदाहरण है। कम उम्र के लड़के और लड़कियों की आदत होती है कि उत्साह में प्रोफाइल पर अपनी सभी जानकारी साझा कर देते हैं। प्रोफाइल पर अपना फोन नंबर, घर का पता या फिर कोई भी प्राइवेट इनफार्मेशन शेयर करने से कई बार समस्या आ जाती है। ऑन लाइन होने पर कुछ लोग खुद को जैसा प्रदर्शित करते हैं वे वास्तविक जीवन में वैसे नहीं होते। बाद में हकीकत जानने पर रिश्ते में दरार आने लगती हैं। अतएव कुछ सावधानिया बरते।
सबके साथ सब कुछ शेयर करना एक अच्छी आदत नहीं है। सभी सोशल मीडिया साइट्स पोस्ट को देखने को लिमिट करने का आप्शन देती हैं। इन सेटिंग्स कोदेखने के लिए समय निकालें, बेस्ट प्राइवेसी सेटिंग को ऑप्ट करने के लिए डिफरेंट सेटिंग को आजमाएं। उदाहरण के लिए, फेसबुक और ट्विटर दोनों आपको उन लोगों की कस्टम लिस्ट बनाने के लिए ऑप्शन देते हैं जिन्हें आप पोस्ट देखने की इजाजत देते है। उन सेटिंग की मदद से आप अपनी प्राइवेसी को बढ़ा सकते है, इन सेटिंग को इस्तेमाल करने के बाद आपकी पोस्ट को वो ही देख सकते है जिन्हें आप ने पोस्ट को देखने के लिए इजाजत दी है। अगर आप पब्लिक कंप्यूटर का यूज़ कर रहे हैं, तो इसे समय-समय पर लॉग आउट करने के लिए एकनियम बना लें और अपने प्राइवेट डिवाइस से लॉग आउट करें। लॉग आउट से यह मदद मिलती है कि दुसरे लोग आपकी सोशल मीडिया प्रोफ़ाइल के साथ कुछ न करें और आपके दोस्तों पर हमला करने के लिए इसका इस्तेमाल ना करें, या उस से भी बदतर, आपका पासवर्ड बदलें और आपको अपने अकाउंट से पूरी तरह से लॉक कर दें।
यह बहुत ज़रूरी है के आप अपने सभी सोशल मीडिया के लिए एक पासवर्ड का यूज़ ना करें। एक पासवर्ड का यूज़ हैकर के लिए आपके अकाउंट को हैक करना आसान बना देता है। ये बात कितनी दर्दनाक होगी के आप एक साथ ही अपने तमाम सोशल एकाउंट्स से ब्लॉक कर दिए जाएँ।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)