बलात्कारी युवक को सात साल की जेल

0

पीड़िता ने कराया था केस दर्ज
दोपहर संवाददाता
भिवंडी। भिवंडी तालुका के खांडपे गांव में एक नाबालिक आदिवासी लड़की को शादी की लालच दिखाने के साथ धमकाकर बार बार बलात्कार करने वाले युवक को ठाणे जिला सत्र विशेष न्यायालय के अतिरिक्त जिला न्यायाधीश पीपी जाधव ने दोषी करार देते हुए बलात्कार के गुनाह में 7 वर्ष कारावास की सजा 10 हजार रुपये दंड वा दंड की रकम न भरने पर 3 महीने अधिक कारावास की सजा सुनाई है।
गौरतलब हो कि भिवंडी तालुका पुलिस सीमा अंतर्गत खांडपे गांव में उक्त घटना घटी थी। खांडपे आदिवासी पाडा में रहने वाली 15 वर्षीय नाबालिग लड़की तालाब पर कपड़ा धुलने के लिए जाती थी, उसी समय आरोपी आशीर्वाद विष्णु पाटील (23) जानवर चराने के लिए जाता था। 14 नवंबर 2016 के बाद से आशीर्वाद लड़की को शादी की लालच दिखाकर तथा धमकाकर उसके साथ कुकर्म करता था। यह मामला तब उजागर हुआ जब लड़की चार महीने की गर्भवती हो गई । उसके बाद आशीर्वाद ने लड़की से शादी करने से इंकार कर दिया। अपने साथ हुए धोखे से परेशान पीड़ित लड़की ने तालुका पुलिस स्टेशन में जाकर बलात्कार का केस दर्ज कराया था। जिसके बाद तालुका पुलिस ने आरोपी आशीर्वाद को गिरफ्तार कर जेल में डाल दिया।जो तीन वर्ष से कल्याण के आधारवाडी जेल में बंद है। तालुका पुलिस ने आठ फरवरी 2017 को आरोपी आशीर्वाद के विरोध में जिला सत्र न्यायालय में आरोप पत्र दाखिल किया था। इस मामले की सुनवाई न्यायाधीश पी पी जाधव के सामने शुरू हुई थी। रेप का मामले विशेष न्यायालय के न्यायाधीश पी पी जाधव के समक्ष चलाया गया।
गवाह व सबूत के आधार पर न्यायालय ने नराधम आरोपी आशीर्वाद को दोषी करार देते हुए बलात्कार व बाल लैंगिक अत्याचार प्रकरण में सात वर्ष की सजा व 10 हजार रुपये दंड की सजा सुनाए है।दंड न भरने पर अदालत ने आरोपी को तीन महीने की अतिरिक्त कारावास की सजा दी गई है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)