यह आदमी कभी जेल से नहीं छूटना चाहिए: कमल बतिजा

0

इंदर बतिजा हत्याकांड: सोशल मीडिया पर वायरल रहा है पप्पू कालानी का पत्र
कालानी की जेल से बाहर निकलने की सभी संभावनाएं हुई फेल
दोपहर संवाददाता
मुंबई। उल्हासनगर के पूर्व विधायक सुरेश उर्फ पप्पू कालानी को 3.12.2013 को कल्याण न्यायालय द्वारा उम्र कैद की सजा सुनाई गई थी,यह सजा इंदर बतिजा हत्याकांड मे सुनाई गई थी, पप्पू कालानी के साथ ,बाबा गैबराल, बच्ची रामचंद्र शीतला प्रसाद पांडे ,इरशाद ताहिर शेख सहित चार लोगों को उम्रकैद की सजा सुनाई गई थी। तभी से चारो लोग पूना के येरवडा जेल मे बंद है ,परंतु कालानी समर्थको द्वारा यह कहा जा रहा था कि जल्द ही पप्पू कालानी छूट जायेगे, परंतु अब पप्पू कालानी के छूटने के सभी दरवाजे बंद होते हुए नजर आ रहे है और उनकी सजा माफी को इनकार कर दिया गया है और फिर्यदि कमल बतिजा ने पुलिस के समक्ष उपस्थित होकर कहा है कि पप्पू कालानी से मुझे और मेरे परिवार को जीवन का खतरा है इसलिए पप्पू कालानी कि सजा माफ् नही की जाए।पप्पू कालानी के ऊपर इंदर बतिजा , घनशाम बतिजा दोनो के हत्याओं का आरोप है अब पप्पू कालानी ने महाराष्ट्र शासन को पत्र लिखकर मांग की थी कि उनकी उम्र कैद की सजा माफ् कर दी जाए, इस बारे मे विठालवाड़ी पुलिस स्टेशन ,कल्याण प्रिशापल जज, और कलेक्टर से पूछा गया था ,इस बारे मे विठ्ठलवाड़ी पुलिस के समक्ष कमल बतिजा ने कहा कि 14 वर्ष के बाद पप्पू कालानी के सजा माफ् नहीं की जाए और जब तक वह जीवित है तब तक उसे जेल मे रहना है , यदि पप्पू कालानी की सजा माफ् कर दी गई तो पप्पू कालानी से मुझे और मेरे परिवार हो धोखा है। कई लोगो का उदाहरण देते हुए पुलिस के समक्ष कमल बतिजा ने कहा है कि यह आदमी कभी जेल से नहीं छूटना चाहिए । बीच मे पप्पू कालानी को पूना के येरवडा जेल से तलोजा जेल लाया गया था ,परंतु कमल बतिजा ने न्यायालय के समक्ष उपस्थित होकर कहा था कि पप्पू कालानी को तलोजा जेल मे जान बूझकर लाया गया है, ताकि कालानी को सारी वी,आय पी सुविधाएं मुहैया कराई जा सके ,उसके बाद फिर पप्पू कालानी को तलोजा जेल से पूना के येरवडा जेल मे शिफ्ट कर दिया गया है।
इसके पहले ही जेल अथार्टी से पप्पू कालानी ने गुहार लगाई थी 14 वर्ष के बाद उनकी सजा माफ् कर दी जाए। कालानी का कहना था कि इसके पहले भी कई वर्षों तक वह जेल मे रह चुके है और वह अभी भी जेल मे रह रहे है। पप्पू कालानी के खिलाफ कुल 65 केस पुलिस स्टेशनों में दर्ज है जिसमे से 13 केस अभी भी न्यायलय में विचाराधीन है,कमल बतिजा के कड़ा विरोध के चलते पप्पू कालानी की जेल से छूटने की सभी संभावनाएं फैल होती हुई नजर आ रही है और पप्पू कालानी बाहर निकलने की आश लगाए बैठे उनके समर्थको के उम्मीदो पर अब एक बार फिर पानी फिर गया है इसलिए अब पप्पू कालानी के 14 वर्ष के बाद सजा को माफ कर दिया जाए अर्जी को एक बार फिर इनकार कर दिया गया है । इसलिए आजीवन पूना के येरवडा मे जेल सजा काट रहे
पप्पू कालानी के सभी रास्ते बंद नजर आ रहे है। इस बारे मे सम्बधित एक पत्र व्हाटसअप सहित अन्य सोसल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है और यह मामला उल्हासनगर के नागरिकों मे चर्चा का एक विषय बना हुआ है कि क्या पप्पू कालानी अब कभी बाहर नही आएंगे ।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)