जेट के 79 विमान परिचालन से बाहर

0

जेट एयरवेज के 10 और विमान हुए खड़े
एतिहाद बढ़ा सकती है अपनी हिस्सेदारी
जेट फंड जुटाने की कोशिश में लगी है
दोपहर संवाददाता
नई दिल्ली। गंभीर नकदी संकट से जूझ रही जेट एयरवेज ने जानकारी दी है कि पट्टा किराया न दे पाने के कारण उसे अपने 10 और विमानों को खड़ा करना पड़ा है। इस तरह से जेट के कुल 79 विमान परिचालन से बाहर हो गए हैं। जानकारी के लिए आपको बता दें कि पट्टे पर विमान देने वाली कंपनियों को भुगतान नहीं करने की वजह से जेट एयरवेज को अपने कई विमान खड़े करने पड़े हैं। एयरलाइन के बेड़े में 119 विमान हैं। बीएसई को दी गई जानकारी में एयरलाइन ने बताया कि संबंधित पट्टे समझौतों के तहत पट्टेदारों को बकाया राशि का भुगतान न करने के कारण उसे अपने 10 और विमानों को परिचालन से बाहर करना पड़ा है। जेट एयरवेज, जो कि वर्तमान में फंड जुटाने की कोशिश में लगी है, ने बताया कि वह अपने नेटवर्क में व्यवधान को कम करने के लिए सभी प्रयास कर रही है। कई तरह की मुश्किलों से जूझ रही जेट को पहले ही कई रुट्स पर अपनी तमाम फ्लाइट्स को कैंसिल करने पर मजबूर होना पड़ा है। गुरुवार को कंपनी को न सिर्फ अपनी अंतरर्राष्ट्रीय सेवाएं निलंबित करनी पड़ी थीं, बल्कि बीते दिन उसने पूर्व और पूर्वोत्तर के कई क्षेत्रों में भी अपनी सेवाएं बंद कर दी थीं। इस कारण बीते दिन यात्रियों को कई तरह की मुश्किलों का सामना करना पड़ा था। सुरेश प्रभु ने आज सुबह ट्वीट करते हुए कहा है कि नागर विमानन मंत्रालय के सचिव को जेट एयरवेज से संबंधित मुद्दों की समीक्षा करने का निर्देश दिया गया है। यात्रियों को होने वाली असुविधा कम करने और उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक कदम उठाने के लिए कहा गया है। जेट एयरवेज में हिस्सा खरीदने के लिए एतिहाद एयरलाइंस राजी हो गई है। ईकोनॉमिक टाइम्स में प्रकाशित खबर के मुताबिक एतिहाद ने एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट (अभिरुचि पत्र) जमा करा दिया है। जानकारी के लिए आपको बता दें कि वर्तमान में जेट एयरवेज में एतिहाद की 24 फीसद हिस्सेदारी है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)