सिंह बंधु 3500 करोड़ का भुगतान करे: सुप्रीम कोर्ट

0

किसी एक व्यक्ति नहीं, बल्कि देश की इज्जत का सवाल है
सिंगापुर के ट्रिब्यूनल ने दिया है फैसला
सिंह बंधुओं पर रैनबैक्सी के बारे में अहम जानकारियां छिपाने का आरोप
दोपहर संवाददाता
नई दिल्ली। जापान की कंपनी दाइची सैंक्यों की अपील पर सुनवाई कर रही सुप्रीम कोर्ट ने रैनबैक्सी के पूर्व प्रमोटर मलिविंदर सिंह और शिविंदर से 3500 करोड़ रुपए के भुगतान का प्लान बताने को कहा है। जी हां, दरअसल गुरुवार को मामले की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि यह किसी एक व्यक्ति नहीं, बल्कि देश की इज्जत का सवाल है। इसलिए आपको हर हाल में इस भुगतान के लिए अपनी योजना पेश करनी होगी।
आपको बता दें कि जापानी कंपनी दाइची ने सिंह बंधुओं पर रैनबैक्सी के बारे में अहम जानकारियां छिपाने का आरोप लगाकर सिंगापुर के ट्रिब्यूनल में शिकायत की थी। इस मामले में सिंगापुर के ट्रिब्यूनल ने सिंह बंधुओं को दाइची को 3500 करोड़ देने का आदेश दिया था।इसके बाद सिंह बंधुओं की ओर से पैसे नहीं दिए जाने पर दाइची ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की। बता दें कि याचिक पर सुनवाई करते हुए चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने कोर्ट में मौजूद सिंह बंधुओं से कहा कि वह अपने वित्तीय और कानूनी सलाहकारों से विचार विमर्श के बाद भुगतान की पूरी योजना बताएं। इसके अलावा पीठ ने यह भी कहा कि एक समय आप फार्मा इंडस्ट्री की पहचान थे। अब आपका इस तरह कोर्ट में आने अच्छा नहीं है। बता दें अब इस मामले की अगली सुनवाई 28 मार्च को होगी। आपको बता दें कि पीठ ने मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि कानून के अनुसार आपको यह भुगतान करना है। इससे आप किसी भी तरह बच नहीं सकते हैं। इसके बाद में कोर्ट ने एक दूसरे से अलग हो चुके सिंह बंधुओं से इस भुगतान के लिए एकजुट होने को भी कहा। बता दें कि कोर्ट ने यह भी कहा कि इससे देश को कोई भला नहीं होगा लेकिन यह देश की इज्जत का मामला है। इसका मतलब ये है कि आपको पैसा चुकाना ही होगा।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)