ऑटो बिक्री में मंदी का दौर

0

दोपहर संवाददाता
मुंबई। फेडरेशन ऑफ ऑटोमोबाइल डीलर्स एसोसिएशंस (एफएडीए) ने बुधवार को फरवरी, 2019 के वाहनों के मासिक पंजीकरण के आंकड़े जारी किए। आंकड़ों के मुताबिक इस वित्त वर्ष में फरवरी सबसे खराब महीनों में से एक रहा है। एफएडीए के अध्यक्ष आशीष हर्षराज काले ने कहा, “जनवरी में पीवी की सेल्स में एक माह तक हुई वृद्धि साल के अंत एवं स्टॉक क्लियरेंस की वजह से तथा इस उद्योग में कुछ नए लॉन्च हुए वाहनों के प्रति उत्साह के कारण थी। इस वृद्धि के बाद उद्योग ने एक बार फिर नकारात्मक रुख ले लिया है और फरवरी इस वित्तवर्ष के दौरान ऑटो की रिटेल में सबसे मंद महीनों में से एक बन गया है।” एफएडीए के अनुसार स्थिति यह है कि टूव्हीलर डीलर्स के पास कुछ स्थानों पर स्टॉक 100 दिनों से ज्यादा समय से जमा है।
उन्होंने कहा, भारत में ऑटो की बिक्री में काफी लंबे समय से मंदी चल रही है और बिक्री में यह मंदी तथा नकारात्मक वृद्धि पिछले छह महीनों से जारी है। निकट भविष्य में भी इस स्थिति के सुधार के संकेत कम हैं।” जारी बयान के अनुसार, सितंबर में बीमा के खर्च में तीव्र वृद्धि के बाद पिछले कुछ महीनों में कई नकारात्मक चीजों के कारण ग्राहकों ने नए वाहन खरीदने के निर्णय को स्थगित किया है और ग्राहकों की मांग कमजोर हुई है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)