अमरावती से करेंगे चुनाव का आगाज

0

मातोश्री में शिवसेना प्रमुख से की सीमए फडणवीस ने मुलाकात
मिलकर करेंगे 6 रैलियां

बीजेपी और शिवसेना का गठबंधन 1989 के लोकसभा चुनाव से ही है और तब से लेकर 2014 के लोकसभा चुनाव तक दोनों पार्टियां राज्य में हर लोकसभा और विधानसभा चुनाव साथ लड़ीं. 2014 के महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में दोनों अलग-अलग चुनाव लड़े थे.

मुंबई। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे से बुधवार सुबह मुलाकात की. दोनों नेताओं के बीच लोकसभा चुनाव खातिर शिवसेना-भाजपा के गठबंधन की घोषणा के बाद से पहली मुलाकात थी. मातोश्री में हुई इस मुलाकात के दौरान देवेंद्र फडणवीस और उद्धव ठाकरे के बीच चुनाव प्रचार की रणनीति तैयार की गई.
बैठक में आदित्य ठाकरे, सुधीर मुनगंटीवार, चंद्रकांत पाटिल, मिलिंद नार्वेकर और सुभाष देसाई मौजूद थे. बैठक में राज्य भर में 6 संयुक्त रैलियां करने का निर्णय लिया गया, जिसमें दोनों दलों के नेता मंच साझा करेंगे. माना जा रहा है कि पहली रैली 15 मार्च को सुबह अमरावती और शाम नागपुर में, दूसरी रैली 17 मार्च को सुबह औरंगाबाद और शाम नासिक में, तीसरी रैली 18 मार्च को नवी मुंबई और पुणे में होगी.बीजेपी की ओर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ स्टार प्रचारक होंगे. महाराष्ट्र की 48 लोकसभा सीटों में से 25 पर भाजपा और बाकी 23 पर शिवसेना चुनाव लड़ेगी. 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने 26 सीटों पर चुनाव लड़ा और 23 सीटों पर जीती. जबकि शिवसेना ने 22 सीटों पर चुनाव लड़कर 18 सीटों पर जीत दर्ज की थी.कुछ दिन पहले शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा था कि ये गठबंधन राष्ट्रहित में किया गया है. हम अकेले भी महाराष्ट्र में लोकसभा और राज्य के चुनाव जीत जाते पर केंद्र की राजनीति को देखते हुए ये गठबंधन जरूरी था. लोकसभा और विधानसभा के चुनाव में ऐसी जीत दर्ज करेंगे कि सबका सफाया हो जाएगा. ऐसा सफाया मानो किसी ने खजाना लूट लिया हो ताकि भविष्य में आगे कोई भी पार्टी,शिवसेना के सामने उम्मीदवार न खड़ा करे.

सुजय को जिताने का पूरा प्रयास करेंगे : उद्धव

शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने बुधवार को मातोश्री बंगले पर पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि युवा सेना अध्यक्ष आदित्य ठाकरे लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे। उद्धव ने कहा कि वह अपने बेटे के साथ ही अन्य नेताओं के बेटों का भी सम्मान करते हैं। इसी वजह से अहमद नगर संसदीय सीट पर विधानसभा के विपक्षी नेता राधाकृष्ण विखे पाटील के बेटे सुजय विखे पाटील को जीताने के लिए पूरा प्रयास करेंगे। उल्लेखनीय है कि सुजय विखे पाटील मंगलवार को भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए हैं और मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने उनका नाम अहमदनगर संसदीय सीट के लिए केंद्रीय संसदीय चुनाव समिति के पास भेजे जाने की घोषणा की है। इसलिए बुधवार को दोपहर में सुजय विखे पाटील मातोश्री पर जाकर शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे से मिले थे।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)